top of page
  • Writer's pictureVishal Kachroo

Aeny (ॲन्य)

Updated: 6 days ago

Author: Sh. Hari Krishen Kaul

 

Devanagari Kashmiri Transliteration: Raman Kaul


Kashmiri Narration: Vishal Kachroo


 






ॲन्य

हरि कृष्ण कौल

Devanagari Transliteration: Raman Kaul


मॆ ऑस अजीब हालथ गॉमॖच़। सोंचनुय ओसुम न तगान ज़ि क्याह पज़ि करुन। मॆ बास्यव ज़ि अगर बसि मंज़ बॆयि कांह सीट खॉली आसिहे, सु आसिहे नॖ मॆ निश बीठॖमॖच़।


मॆ फ्युर कलॖ तॖ लॊगुस खहन, कुल्यन, तॖ वुडरन हुंद नज़ारॖ वुछिनि। आफताबस ऑस लोसॖनॖच त्राय, तॖ थद्यन फ्रसन हॖंज़ॖ छ़ायि आसॖ ज़्यादय ज़ेछेमॖच़ॖ। ताफ ति ओस योहय दॉद्य लदॖ सॖंद्य पॉठ्य ज़र्द्योमुत। दूरि वुडॖरि दामनस तल ओस कुसताम गाम। तॖ अमि गामचन लर्यन ओस दॖह ओबुरॖ ज़ांडॖक्य पॉठ्य वलॖनॖ आमुत।


बसि मंज़ गव पतॖ कनि क्याहताम शोर ह्यू। मॆ च़्यून ज़ि मामलॖ क्याह गछ़ि आसुन। मॆ दिच़ पथ कुन नज़र। अवॖ यी हय ऑस दलील। पॅतिमि सीटि प्यठ बिहिथ बुडन ऑस ब्ययि कंडक्टरस पनॖन्य दॉद्य् कांगॖर वनिमॖच़ तॖ कंडक्टर ओस बेयि तस रॖड्योमुत। यि बुडॖ ओस संग्रामि गाडि खोतमुत त् अमिस ओस दरअसल टंगमर्गि गछ़ुन। शहरॖ प्यठ ऑस टंगमर्गि खॉतॖरॖ ऑखरी बस शेयि बजि नेरान तॖ यि ओस यछ़ान वती सु रटॖन्य्। यि बस अथॖ गछ़ॖन्य ओस तसॖंदि खॉतॖरॖ मोतॖ ख्वतॖ सख। तिक्याज़ि तसॖंदि वनॖनॖ मूजूब ओस नॖ तस शहरस मंज़ रोज़नुक कांह इंतज़ाम। कूर सॗत्य आसॖनॖ मोखॖ हॆकिहे न सु मशीदि मंज़ ति रूज़िथ। अवय किन्य ओस सु कंडक्टरस वुनिकि प्यठय यि दॅपिज़ि ति ह्वंगॖनि रटान। ज़ि युथॖय तस टंगमर्ग बस द्रेंठि गछ़ि, त्युथॖय गछ़ि सु अथॖ दिथ तथ रुकावुन। हालाँकि टंगमर्ग बस हेकिहे न असि नारॖबलॖ ब्रोंठ समखिथ तॖ वुनि ऑस्य तोर ताम ऑठ - दाह मील।


बॖ ब्यूठुस बेयि स्योद। पथ कुन वुछनॖ त वापस बुथ ब्रोंठ कुन फिरनावॖनॖ विज़ि पॆयि मॆ अ‍ॅमिसॖंदिस बुथिस, जूडस, त जूडस मंज़ बंद डेजिहरिचि अटि कुन नज़र। मगर वोन्य वुछ मॆ दुलंजल चपनि मंज़ अ‍ॅमिसॖंद्य ख्वर। ख्वरॖ नमन हॖंज़ पालिश त द्वद ही प्रॅन्य ग्वड। पेटीकोटुक फीतॖ। चक रेशिमॖचि दोति हुंद ओड हिसॖ, तॖ अथॖ ज़ॖय यॉत्य ऑस्य् बोज़ॖनॖ यिवान। अथॖ ऑसिस आवॖर्य्। कॅमिसॖंदि तान्य खॉतॖरॖ ऑस बनियान वूनान। शायद आसिहेस रॖनिस किच़। तिमन दोहन आसॖ म्यानि खॉतॖरॖ ति अमि त्र्य बनियानॖ वूनिमच़ॖ, यिमव मंज़ॖ अख मॆ निश वुनि ति मूजूद छि। बॖ छुस सु वुनि ति मंज़्य मंज़्य छ़ॖनान। हालाँकि तथ छु रंग छॆत्योमुत तॖ कछ़न तल छिस अख ज़ॖ वॉल्य् ति नीरिथ च़ॅलिमॖत्य्।


पंदाह मिनट ज़्यादय ऑस्य असि इकवटॖ बिहिथ गॉमॖत्य। मगर पानॖवॖन्य ऑस नॖ कथा बाथा कांह सपॖज़मॖच़।  सुति ओस वख येलि गंटॖ वादन बकवास कॅरिथ ति ऑस्य नॖ अस्य थकान। मगर आज़ॖ ओस नॖ असि पानॖवॖन्य खॉरपाठ करनस ति बुथ समान। द्वशवय ऑस्य छ़ॊपॖ कॅरिथ बिहिथ। तसुंद ह्यकॖ नॖ वॅनिथ मगर मॆ ऑस यि छ़ॊपॖ सीनस प्यठ वठ हिश बासान। बॖ ओसुस च़ेनान ज़ि कथ करॖन्य छि ज़रूरी। दफ यि तॊगुम न वार्याहस कालस सोंचुन ज़ि बॖ क्वसॖ कथ करॖ अ‍ॅमिस सॗत्य। आखॖर अ‍ॅमिसॖंदिस बुथिस कुन वुछिनॖ वरॉय प्रुछ़ मॆ अमिस, “तोहि छा आज़ॖ यती हयगामॖ ड्यूटी?”


“आ”, अम्य द्युत च़टवुन जवाब।

“कोताह काल गव?”

“ऊतरय करहस बॖ नवि कदॖलॖ प्यठॖ तबदील।”


दोपुम दपस अ‍ॅज़िचि लटि चलेयि ना मीर सॉबॖॖन्य सुफॉरिश। मगर प्रान्यन ज़ख्मन क्रॉल्य तुलुन बास्योम न जान। मॆ कॅर छ़ोपॖ तॖ ब्यूठुस बेयि दारि किन्य वुछिनि। सडकि सॗत्य सॗत्य ऑस फ्रसन हॖंज़ कतार। तमि पतॖ ऑस्य बिजली तारन हंद्य कूट्य, पतॖ दाँ ज़मीन। पतॖ वीरि वारि। कुनि कुनि जायि ऑस काँह बून्य या तुलॖकुल। तॖ दूरि ऑस्य शीनॖ बाल। अख वख ओस मॆ गोमुत दोहोय यी वुछान। कुनि जायि ऑस नॖ कांह तबदीली आमॖच़। फ्रस या बिजली कूट्य, दाँ ज़मीन या वीरि वारि, बोनि या शीनॖ बाल। काँह चीज़ ओस नॖ बदॖल्योमुत। या मुमकिन छु बदॖल्योमुत आसिहे, अमापॊज़ मॆ ओस नॖ लबॖनॖ यिवान। मॆ दिच़ तल्य टार्यव अमिसंदिस जूडस त डेजिहरिस कुन नज़र तॖ वोनमस ल्वती, “त्वहि छु मुबारक”।


“सलामत।”


मॆ वुछ नॖ केंह मगर बास्योम ज़ि जवाब दिनॖ विज़ि आसि यि मंदछेमॖच़ हिश। वुठ ति आसनस कुमलेमॖत्य्।


अ‍ॅमिसुंद असुन कोताह ओस मॆ खोश करान। मॆ प्यव सु दोह याद यॆलि लाल मंडी बागस मंज़ बिहिथ मॆ निश अम्य मतलबॖ वरॉयी कथ सासा आसन करिमच़ॖ। त कथि कथि प्यठ ओसुन ओसमुत।


“सानि सॊकूलॖ छना सॉ टीचर शीला? शीला कोल ह सॉ। तसुंद हसबंड ति छु इकनामिक्सस मंज़ एम-ए। तोह्य ज़ॉन्यून सॉ सु? हँह हँह हँह। दपान ह सॉ एम-ए ह्यंदी छु सहल। चूनी खोडा ताम गयि पास। बॖ हेका सॉ पास गछ़िथ?  हँह हँह हँह। चीफॖ संदिस दफतरस मंज़ छुना सॉ जान जान मस थविथ सु मुसलमान क्लॉरॖख? सु ह सॉ छु अडॖच़ॊट गछ़ुन लायख। ऊतॖरॖ छुम दपान च़ॖ कर एम-ए। ग्रेडिड पोस्ट दिवनावुन गव म्यानि मटि। प्योसॖ सॉ तावन। हँह हँह हँह।


“मॆ दिवनाव सॉ हेरि पब्लिक लाइब्रेरी मंज़ॖ काँह जान पाहान किताबा कडिथ। बॖ ह सॉ छस असली अमी मोखॖ योर आमॖच़। हँह हँह हँह। तोह्य क्याज़ि सॉ छिव छ़ोपॖ करिथ बिहिथ? मनहूस ही, मॆ ह सॉ छु यि खरान।”


“मॆ छि चानि यिमॖ माने बगॉर कथॖ तॖ मलतबॖ वरॉय असुन स्यठा खोश करान। अवय छुस छ़ोप करिथ अम्युक लुतुफ तुलान।” यीत्य कॉल्य ऑस शायद मॆ यहय कथ करमच़।


“त्रठ हय। यि क्युथॖय?” म्योन जवाब बूज़िथ ओस अमि बेयि असुन त्रोवमुत, “हँह हँह हँह…”


बस ऑस च़लान त लारान। शायद ऑस ड्राइवरस शहर वॉतिथ पगाह खॉतॖर नंबर रटॖनॖच जल्दी। मॆ तुल कथि हुंद ब्याख कून, “यति प्यठॖ छि सिरीनगर ताम बहय मील।”


अमि बूज़ न केंह। या बूज़िथ द्युतुन गोश।


“मुमकिन छु अस्य वातव साडि शेयि ब्रोंठय।”


“ती छु बासान”, वुनिक्यनस लोग न अ‍ॅमिस कथ करनस चारॖ।


बॖ तुलहॉ शायद बेयि काँह कथ। मगर अमी सातॖ दिच़ पतिमि सीटि हंद्य बुडन ड्राइवरस क्रख, “वोस्ता बलायि लगय, यादॖय थॅविज़ि।”


वोस्तन बूज़ुस नॖ शायद केंह। अमापोज़ कंडक्टरन बूज़नस त तम्य करनस गगराय, “ह्यो कथू लॉजिछ अलिश? वुनि हा छि नारॖबल ताम त्रे मील।”


सवार्यव त्रोव असुन। बुड गव शरमंद ह्यू। मॆ आव कथि हुंद ब्याख कून अथि। बॖ वोथुस अमिस कुन, “हुम्य बुडन कड्य पज़्य पॉठ्य कॉड्य।”


“कम्य बुडन?” साफ ओस ज़ि स्व ऑस कमन ताम गोतन गॉमच़।


काँसि न, यिथय वोनुम। मे ति च़ट कथ।


हरगाह बस साडि शेयि ब्रोंठॖय सिरीनगर वाति, जानॖय गव। ब लॊगुस सोंचॖनि। योरॖ गछ़िथॖय गव रीगलस मंज़ साडि शेयि हुंद अंग्रीज़्य शो वुछुन। दपान राथॖय छि तति क्वसताम जान फिलिम लॅजिमॖच़। लाल चोकस मंज़ गॉंटॖ वादय खडा रोज़ॖनॖ या बंडस प्यठ दरबदर फिरॖनॖ ख्वतॖ छु यी जान। सेनिमा हालॖ मंज़ॖ नीरिथॖय गव स्योदॖय कुनि बारस मंज़ अच़ुन तॖ कहन बहन ताम तॅत्य ब्युहुन। मॆ बास्याव ज़ि गरॖ सुली वसुन गयि बेवकूफी। तति कस वॖकॖरि आसि मे प्रारान प्रारान दोह लूसॖमुत?


बसि च़ोट हॖकॖ मोड तॖ बॖ आस अमिस प्यठ लायिनॖ ह्युव। अमि च़ॊमॖरोव पान तॖ बॖ ब्यूठुस स्यॊद। अ‍ॅमिसॖंदि पान च़ोमरावॖनॖ सॗत्य पॆयि मॆ अख प्रॉन्य कथ याद। ब ओसुस तिमन दोहन नोकरी खॉतॖरॖ ज़ंगॖ ज़ंग करान। यि समखेयि मे सेकट्रेटॖ। मे ऑस अमि दोह ग्वडनिचि लटि टाइ गंडॖमॖच़। मगर टायि ब्रोंठ ऑस अमिसॖंज़ नज़र म्यानि कमीज़ि हंदिस छ़ेनिमॖतिस कालरस कुन पेमॖच़। दोयिमि दोह आयि यि त्रेयि काकुन, तॖ तिहुंद बिटॖ सूज़िथ न्युवनस बॖ तूर्य।  तिमॖ सॉरी बॉच़ ऑस्य बोनॖ व्वटि बिहिथ तॖ हेरि कुठि थॅव अमि मॆ ब्रोंठकनि अख मोलॖल्य टेरीलीन कमीज़ तॖ वोनॖनम, “तलॖ सॉ वुछिव कालर साइज़ छुसॖ ठीक?”


ब ओसुस हॉरान गोमुत। मे प्रुछ़मस, “यि कति अनिथ च़े?”


“अमॖराकदॖलॖ ह सॉ बेयि कति?”


“म्योन मतलब छु पोंस कति अनिथ?”


“अज़ छुना फॅस्ट। मे तॊर ना तनखाह।”


“तनखाह तॊरॖय ठीक गव। मगर गरिक्यन क्याह वनख?”

 

“ति ति छु मे सूंचॖमुत। दपख पर्सॖ मंज़ॖ नियिनम कम्यताम पोंंसॖ च़ूरि। ति करिथ छा तिमॖ म्यॉनिसॖय तनखाहस प्यठ?”


मगर मे कोर तोति इनकार। अमिसॖंदि ज़ारॖपारॖ करॖनॖ पतॖ ति येलि बॖ कमीज़ रटॖनस रॉज़ी गोस नॖ, अ‍ॅमिस गयि अ‍ॅछ च़ेरॖ नम हिशि तॖ तिमव मंज़ॖ लॊग ओश पशपुन। मॆ गव न अमिसुंद यि ओश त्रावुन बरदाश। मॆ रॅट छ़्वप कॅरिथ कॅमीज़ तॖ सॗत्य  रटॖम यिति नालॖमति। यि ऑस मॆ सॗत्य लॉरिथ हिश गॉमॖच़। तॖ मे ओस पनॖन्यव वुठव सॗत्य अमिसुंद ओश वथरोवमुत।


अस्य वॉत्य नारॖबल तॖ कंडक्टर वॊथ बुडस कुन, “हतो रोज़ू तयार नारॖबल हा वोतुख।”


बुड गव पज़ी पॉठ्य थोद वथिथ तॖ केंच़व सवार्यव त्रोव असन खंगालॖ।


मॆ बास्याव दिलस क्याहताम तछुन ह्युव। अम्युक वजह ओस शायद यि ज़ि मे ऑस्य वन्य ज़्यादय सिगरेट हॆतिमॖत्य चॆन्य। सुबॖहॖ प्यठॖ बसि खसनस ताम आसॖ मे ज़ॖ डबि चेमॖच़ॖ। तॖ अगर नॖ यि आसिहे मे निश बिहिथ, मॆ आसहन बसि मंज़ ति च़ोर पांच़ सिगरेट चेमॖत्य। अ‍ॅकिस ज़नानि मोहनिविस निश बिहिथ ओस नॖ मॆ सिगरेट चॊन वॉजिब बासान। हालांकि तिमन दोहन ओस न ज़ांह अमि म्यॉनिस सिगरेट चनस प्यठ ऐतराज़ कोरमुत। मे ऑस वाँलिज कूरॖनॖ हिश यिवान। असली पज़न मॆ वन्य सिगरेट त्रावॖन्य। सॖती सूंचुम ज़ि यि मॆ पज़ि, ति कति छुस बॖ सोरॖय करान? वुछव तय म्यानि ज़िंदगी छुनॖ काँह माने या मकसद। ज़ॖ वरी ज़्यादय ऑस्य मे गॉमॖत्य सिरीनगरॖ प्यठॖ वरमुल तॖ वरमुलि प्यठॖ सिरीनगर वस खस करान। सुबहस शहर बस रटनॖच लारॖ लार त शामस वरमुल गॉड्य रटनॖच त्रपॖ त्रप। वार्याह ऑस्य हॉरान ज़ि ब कोन छुस वरमुली डेरॖ करान। मगर मे ओस न फिकरी तरान ज़ि वरमुलि डेर करिथ क्याह कर बॖ। सिरीनगॖरॖ छुस तोति च़ेर ताम यारन दोस्तन सॗत्य बिहिथ वखॖत गुसॉई करान। तॖ गरॖ वॉतिथ छुस वथॖरॖनिस प्यठ खर ह्यू प्यवान। वरमुलि मा आसन शामॖ पतय मॆ कमॖरॖचि लबॖ खेनि यिवान? खबर खांदर करॖनॖ पतॖ मा गछ़ि सोरुय ठीक, क्याह ह्यकव वॅनिथ। यिमव खांदर कोरमुत छु, तिमॖ ति छिनॖ सॉरी सॊखी।


ओरॖ ऑस क्वसताम बस यिवान। बुडस च़ॅज हॖकॖ क्रख नीरिथ, “वोसता”। नज़दीक यिथ पॊर मॆ अम्युक बोड। यि ऑस सोपोर बस। कंडक्टरन कर बुडस बेयि ब्यवॉरी। तॖ यिमॖ सवारि पतॖकनि आसॖ, तिमव त्रोव ठाठा कॅरिथ असुन।


असनुक शोर बूज़िथ दिच़ अमि ति पथ कुन नज़र, तॖ अ‍ॅमिसॖंज़ि सलॖयि सॗत्य लॅज मॆ बुथिस छी। यि ऑस अख मोमूली कथ। मगर अ‍ॅमिस गव बुथिस अकि रंगॖ ब्याख रंग। “त्वहि मा सॉ लॊगुव ज़्यादॖ?” अ‍ॅम्य प्रुछ़ खूच़्य खूच़्य त लॅज आरॖ हच़व चश्मव म्यॉनिस बुथिस कुन वुछिनि। तिमॖ आरॖ हच़ॖ अदरेमॖच़ॖ अ‍ॅछ ति आसॖॖ मॆ ज़ारॖ पारॖ करान। मॉफी मंगान।


खबर मॆ क्याह गव? बॖ ह्यॊकुस नॖ अ‍ॅमिसुंद यिथॖपॉठ्य पानस कुन वुछुन च़ॉलिथ। मॆ छ़ुन कलॖ ब्वन कुन तॖ वॊनमस, “न न मॆ लॊग न बिल्कुल।”


“मॆ ह स गछ़ि मॉफी दिन्य।” स्व ऑस शायद पज़ि पॉठ्य पानस कसूरवार ज़ानान।


मॆ सूंच ज़ि अगर तमि दॊह ति अमि यिथय पॉठ्य मॉफी मँजिमॖच़ आसिहे, मुमकिन छु ज़ि आज़ॖ मा आसिहे नॖ यि हालथ। वुनिक्यनस ऑस मॆ सलॖयि सॗत्य मोमूली छी लॅजिमॖच़। मगर तमिसातन ओस मॆ वाँलिजि मॆ सु तीर लॊगॖमुत। यमिच दग बॖ आज़ ताम ललनावान छुस। मीर सॉबुन कुस न ज़ानिहे। तॖ यि ऑस मॆ तॅमिसॖंदि बँगलॖ मंज़ॖ रॉच़ हॖंज़ि दाह बजे ग्रेड प्रमोशन किस काकदस दसखत करनॉविथ नेरान रॅटॖमॖच़। खबर क्याह क्याह ओस मॆ तॊताम अ‍ॅमिस मुतलक सूंचमुत। मगर तमि दॊह गव सु मंदर छलि छलि। तॖ अगर पॊज़ बोज़व, अमिकुय ओस मॆ ज़यादॖ अफसूस। अगर यि ग्रेड प्रमोशन खॉतॖरॖ यीच़ आंतॖ ऑस, मॆ आसिहेन वोनॖमुत। बॖ हय ओसुस तिमन दोहन हमीद सॉबॖन्य शुर्य मुफ्त परनावान। तॅस्य अथि आसिहे मॆ मीर सॉबस टेलिफोन करनोवॖमुत। हमीद सॉबॖनॖय ओसुस बॖ ल्यकचरार लोगमुत। अदॖ अंदिहे ना तसॖंदि दॅस्य यि मोमूली कथ?


सलॖयि तॖ येरॖ डींजि आसॖ अमि वन्य नैलान टूकरि मंज़ थविमच़ॖ। तॖ टूकॖर ऑसॖन ब्रोंठ कनि क्वठ्यन द्वन प्यठ रटॖमॖच़। मॆ पॆयि अ‍ॅमिसॖंज़ि वाजि कुन नज़र। अथ प्यठ ओस अंग्रीज़्य हर्फन मंज़ एस.एन.रैना लीखिथ। बॖ लॊगुस सोंचनि ज़ि अ‍ॅमिसॖंदिस रॉनिस क्याह आसि नाव। शायद शंभू नाथ रैना, नतॖ सोम नाथ रैना। नतॖ सुरेंदर नाथ रैना। एस.एन. सॗत्य छि बटन मंज़ अमूमन यिमय नाव शॊरू गछ़ान। मॆ बास्यव ज़ि अगर तस शंभू नाथ नाव आसि सु माशटर या कांह मोमूली क्लॉरॖख। अगर सुरेंदर नाथ नाव आस्यस, तेलि आसि सु ज़ॊरूर इंजीनियर, डाक्टर या युथुय ह्यू केंह।


युथॖय ओरॖ कांह बस ऑस नज़ॖरि गछ़ान, बुडॖ ओस तॊह फलिक्य पॉठ्य सीटि प्यठॖ थॊद गछ़ान वॅथ्य वॅथ्य। मगर वुन्युक ताम यिमॖ बसॖ आयि, तिमॖ आसॖ सोपोर, वरॖमुल, स्वगाम, वोरि, बंडपूर, तॖ हंदॖवारिचि। शॆ आसॖ बजेमॖच़ॖ तॖ ड्रैवर ओस बस कॉफी तेज़ चलावान। तस ऑस नंबर रटॖनॖच यीच़ जल्दी ज़ि छच़बलॖ द्राव सु गुज़रॖ न्यॅबॖरी। ब्रुंज़ खंड गव तॖ ओरॖ आयि ब्याख बस। नजदीक वॉतिथ पॊर मॆ अम्युक बोड। अथ ओस सुंबल गछ़ुन। मगर बुडॖ क्याह मानिहे? तस च़ॅज बॆयि क्रख नीरिथ, “व्वस्ता!” व्वस्तॖ ओस यीतिस कालस च़ख च़ॉपिथ छ़्वप करिथ बिहिथ। मगर यि क्रख ज़न गयि नॖ त बरदाश। सु वॊथ कंडक्टरस कुन, “सुला! छ़ुनुनू यि बुडॖ ग्रॗस्य दलॖ ब्वन वॉलिथ।” तॅम्य च़ॉर बुडॖनि म्वकॖदम सॖंज़ि कोरि ड्रैवर आयि मन जोरा वज़नी ल्यख।


बुडॖ ओस वुन्युक ताम नाना बिचोर ह्यू बिहिथ। मगर यि ल्यख बूज़िथ खॊत तस ति काड्यन तॖ सु वॊथ कमिताम हटि, “व्वस्ता, अखलाक सान कर कथ।”


“अखलाक का साला!” सुलॖ कंडक्टरस खॊत जहल तॖ तॅम्य छ़ॖन्य बुडस च़ादर पचि थफ। बुडॖ ज़नॖ ओस अ‍ॅथ्य प्रारान। तॅम्य लोग डांब। “हता ख्वदाया। मोरहस हा। हया यहय छा इन्सॉनियत? यहय छा मुसलमॉनी?”


बुडस सॗत्य य्वसॖ कूर ऑस, तमि छ़ॅट बाख। ड्रैवर ओस ज़्यादय तत्योमुत। सु ओस नॖ वन्य बुडॖसॖय योत, बॅल्कि सारिनॖय ग्रॗसत्यन, तिहॖंद्यन म्वकॖदमन, तॖ पीरन ल्यकॖ कडान। केंह सवारि आसॖ तस ज़ारॖ पारॖ करान। “हे निबाव सॉ वन्य, व्वस्ता!” अख सवॉर्य वॅछ़ बुडस कुन ति, “ह्यो, च़ॖय करू वन्य छ़्वपॖ।”


“क्या हॅज़ करॖ छ़्वपॖ?” बुडॖ गव तस सवारि अगादि, “ज़ानि हॅज़ म्योन पान। ख्वदा दियिन नजात। हरगाह मॆ टंगॖमर्ग बस अथॖ गछ़ि, बॖ हय मूदुस साफ! येति हय वुछिम शहरक्यन हॖंज़ शूब। हरगाह बॖ रातस शहरॖ फस्योस, तिमॖ हय वालन पानस कोठस ज़िंदय मॖसॖलॖ।” यि बूज़िथ लॅज तसॖंज़ कूर ज़ोरॖ ज़ोरॖ बाख छ़टॖनि। बसि मंज़ वॊथ हुय ह्यू, युस तॆलि ब्यूठ यॆलि असि कंडक्टर सॖंज़ यि कथ गयि कनन, “हतो बुडॖ चॆचा, द्यू बुथि बुथि, होक्योहो गयी बस नीरिथ।” बुडन, मॆ, तॖ वार्राहव सवार्यव दिच़ पथ कुन नज़र। सानि निशि हथ शथ गज़ दूर ऑस अख बस च़लान तॖ दोरान, यथ पतॖकनि ति ओस लीखिथ, ‘सिरीनगर ता टंगमर्ग’। यि बस ऑस असि दॅछिन्य किन्य द्रामॖच़। मगर युस तनाज़ॖ बुडन तॖ ड्रैवरन तुलॖमुत ओस, तमि किन्य ओस न ओर कुन काँसि ति ज़्वन प्योमुत।


आवरॖनि निश रुकॉव ड्रैवरन बस। शहर यिनॖ वाजिनि केंह सवारि छि अतीनस वसान। यिति वॅछ़ रसय थॊद, तॖ मॆ प्रॖछ़ॖनॖ या नमस्कार करॖनॖ वरॉय वॅछ़ बसि मंज़ॖ ब्वन। बॖ ओसुस नॖ अमि खॉतॖरॖ तयार। ज़नॖ मच़ि न्यॅंदॖरि चपाथ लॉयिथ बॖ काँसि हुशार कॊरॖनस। तस ओस रॗनिवारि गरॖ तॖ मॆ ओस खयाल ज़ि स्व वसि अ‍ॅमराकदॖलॖ। वन्य प्यव मॆ ज़्वन ज़ि अ‍ॅमिस आसि वॉर्युव गछ़ुन तॖ तिमॖ आसन यतीनस अ‍ँद्य पॅक्य कुनि जायि रोज़ान। यीतिस कालस बस अत्यथ रुकेयि, बॖ लॊगुस दारि किन्य मुदय गंडिथ अ‍ॅम्य सॖंज़ पॊत चाल वुछिनि। कोताह शूब्यदार ओस छ़ॊट्य छ़ॊट्य कदम तुलिथ अ‍ॅमि सॖंदि पकॖनुक अंदाज़। कॉच़ा जान ऑस अ‍ॅमिस दूत्य सजान। मॆ बास्यव ज़ि अ‍ॅमिसॖंद्य वॉरिव्य आसन यतीनस करन नगॖरॖ या बाल गाडनॖ रोज़ान, येति अमूमन जान गुज़ारॖ वॉल्य लूखॖय छि बसान। मॆ गयि क्याहताम सथ हिश। खबर क्याज़ि ऑस वुनिक्यनस म्यान्यव रुमव रुमव मंज़ॖ अ‍ॅमिसॖंदि खॉतॖरॖ ऑही नेरान। अडि मिनटि खँड्य कॅड ड्रैवरन बस तॖ स्व डॅज म्यान्यव नज़ॖरव तलॖ। मॆ कॊड सोरॖय कलॖ न्यबर तॖ लॊगुस पथ कुन वुछिनि। मगर स्व आयि नॖ मॆ कुनि बोज़ॖनॖ। आवरॖनि हुंद देवार रूद म्यान्यन नज़ॖरन दोलॖ। देवारॖ अँदॖर्य ओस दॖह नेरान। मॆ च़ॊल व्वश नीरिथ। सूंचुम ज़ि मॆ ह्यू ति आस्या कांह बदबख्त, यॆम्य अ‍ॅकिस मोमूली कथि प्यठ पनॖनिस स्वखस पानय द्रोत आसि द्युतमुत? मॆ च़ोन कलॖ अंदर तॖ दिच़ॖम पथ कुन नज़र। बुडॖ ओस सीटि प्यठ कलॖ ब्वन कुन छ़ॖनिथ बिहिथ। ज़नॖ सु वुन्य काँसि टॉठिस दफनॉविथ आमुत ओस।


मॆ कॊड चंदॖ मंज़ॖ सिगरेट तॖ ज़ोलुम। ज़्यूठ दाम दिनॖ सॗत्य लॊग मॆ अ‍ॅछन दॖह। ऒश ह्यू आम। हंगॖ तॖ मंगॖ वॊथ मॆ खयाल ज़ि अमा अ‍ॅनिस ति आस्या अ‍ॅछन सिगरेट दॖह लगान? सिगरेट चनॖ सॗत्य आस्या तस ति ऒश यिवान?



15 views0 comments

Comments


bottom of page